नावा बाजार। पलामू।पर्यावरण धर्म के आठ मूल मंत्रों को अपनाने से ही बचेगी मानव जीवन की श्रृंखला : पर्यावरण विद् कौशल

पर्यावरण धर्म के शपथ दिलाते पर्यावरणविद कौशल

नावा बाजार। पलामू। पश्चिम बर्दवान जिले के आसनसोल सीतारामपुर एन,डी, राष्ट्रीय विद्यालय  परिसर  में आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि विश्वव्यापी पर्यावरण संरक्षण अभियान के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह पर्यावरण धर्म व वन राखी मूवमेंट के प्रणेता  पर्यावरणविद कौशल किशोर जायसवाल ने  पर्यावरण धर्म के प्रार्थना के साथ चंदन और अमरूद का पौधा लगाकर कार्यक्रम का उद्घाटन किया। उन्होंने  शिक्षक एवं छात्र छात्राओं को पर्यावरण धर्म की विस्तृत जानकारी देते हुए उन्हें  पर्यावरण धर्म को आत्मसात करने  की शपथ  दिलाई। उन्होंने  उपस्थित बच्चों को पर्यावरण धर्म , पौधा, पेड़ और पर्यावरण में फैल रही प्रदूषण के बारे में बताते हुए कहा कि अगर समय रहते लोग  पर्यावरण धर्म के आठ मूल मंत्रों को नहीं अपनाया तो वो दिन दूर नहीं जब लोगों को आवश्यक सामानों के साथ  ऑक्सीजन का सिलेंडर भी साथ लेकर चलना होगा।

पर्यावरण धर्मगुरु कौशल ने  फिर कहा कि देश के वीर सपूतों की शहादत से मानव जैसी शत्रु से आजादी तो मिली है परंतु प्रदूषण नामक शत्रु से आजादी लेना अभी बाकी है। उन्होंने कहा कि प्रदूषण आतंकवादियों और परमाणु बम से भी अधिक खतरनाक है।  इससे धरती और ब्रह्मांड पर रहने वाले 84 लाख योनि जीवो पर प्रदूषण का आफत आ गया है।
पर्यावरणविद कौशल ने कहा कि  पर्यावरण धर्म के तहत भगवान शिव के सामान पौधे को लगाकर जल चढ़ाएं इससे आपको मिलने वाला वरदान और फल  दोनों दिखेंगे।
उन्होंने कहा कि उनके द्वारा चलाए जा रहे निजी खर्चों पर निःशुल्क पौधा वितरण सह रोपन के 55 वर्ष और पर्यावरण धर्म और वन राखी मूवमेंट के 45 वर्ष पूरा होने के उपरांत कोरोना काल में भी पौधा लगाने का कार्यक्रम जारी है। एनडीए राष्ट्रीय स्कूल परिसर में पौधरोपण भी उसी कार्यक्रम का हिस्सा है।

विद्यालय के प्रिंसिपल गिरीश कुमार सिंह ने पर्यावरणविद कौशल के कार्यों की  काफी सराहना की। उन्होंने  कहा कि श्री जायसवाल  एक महान पर्यावरणविद के रूप में देश और दुनिया को पर्यावरण धर्म के पाठ पढ़ा रहे है । इस करोना काल में  भी वे हमारी निमंत्रण  स्वीकार करते हुए  विद्यालय में उपस्थित हुए हैं जिससे पूरा विद्यालय परिवार इनका आभारी है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदीप कुमार सिंह और  संचालन अमित कुमार चौधरी ने किया। जबकि  धन्यवाद ज्ञापन राजेश यादव ने किया। कार्यक्रम में  नरेश प्रसाद जायसवाल, पवन कुमार जायसवाल ,
धनंजय यादव ,सत्येंद्र प्रसाद, राहुल राम ,जयाशिप्रा सोए ,अख्तर अंसारी ने भी अपना विचार प्रकट किया।

20 total views, 2 views today