रमकंडा । गढ़वा । उदयीमान सूर्य के अर्ध के साथ संपन्न हुआ छठ पर्व का त्यौहार

रमकंडा से अरुण कुमार की रिपोर्ट

रमकंडा । गढ़वा। लोक आस्था का महापर्व छठ पूरे भक्ति भाव से प्रखंड क्षेत्रों में शनिवार को संपन्न हो गया। उक्त अवसर पर छठ व्रतियों ने नहाए खाए के साथ 2 दिनों का निर्जला उपवास रख शनिवार को उदयीमान भगवान भास्कर का आर्धय दिया ।

वहीं उक्त त्यौहार पर वैश्विक बीमारी कोरोना का भी सीधा असर देखा गया । इस वर्ष प्रखंड क्षेत्रों के विभिन्न छठ घाटों पर छठ व्रतियों की संख्या काफी कम देखी गई । उक्त कारण छठ घाट का अधिकांश क्षेत्र खाली पड़ा रह गया। इसी तरह उसका असर क्षेत्र के विभिन्न सेवी संस्थाओं पर भी देखा गया ।

इससे पूर्व उनके द्वारा छठ व्रतियों के सहयोग में कई स्रोतों से हाथ बताया जा रहा था । लेकिन इस वर्ष सरकार के गाइडलाइन में बंद हो जाने के कारण उनके द्वारा उसमें काफी कटौती कर दिया गया ।

विभिन्न पूजा समितियों के द्वारा फलाहार वितरण से लेकर कई तरह के कार्यक्रमों को उनके द्वारा काफी छोटा कर दिया गया । पूछने कई समितियों ने बताया कि सरकार का गाइड लाइन में बंद हो जाने के कारण इस वर्ष हम सभी छठ व्रतियों को किसी भी तरह का सहयोग करने से असमर्थ थे ।

लेकिन अंतिम समय में जैसे ही सरकार के द्वारा उक्त गाइडलाइन में ढील दे दिया गया कि हम सभी छठ व्रतियों के सहयोग के लिए सक्रियता से लग गए ।उन्होंने बताया कि क्षणिक समय में हम लोगों से जो बन पड़ा उनके लिए सहयोग करने का काम किए ।

उसके बाद भी रमकंडा के मुख्य बाजार में छठ ब्रतियों के बीच फलहार वितरण, बड़का आहर छठ घाट पर रोशनी की बयोस्था के साथ साथ छठ ब्रातियों के लिए स्नानागार की व्यवस्था की गई।साथ ही कहा की अगर सरकार के द्वारा किसी भी तरह का बंधन नहीं होता तो पिछले वर्ष के अपेक्षा इस वर्ष उससे बेहतर छठ व्रतियों को सेवा देने की हम लोगों की योजना थी ।

27 total views, 1 views today