बिशुनपुरा । गढ़वा । लोगों के चहेते लोकप्रिय शिक्षक बंकटेस प्रताप देव उर्फ लाल बच्चा का निधन, पूरा क्षेत्र मर्माहत

बिशुनपुरा । गढ़वा । कोचेया गाँव निवासी बंकटेश प्रताप देव उर्फ लाल बच्चा उम्र 53 वर्ष का निधन गुरुवार की शाम हृदय गति रुक जाने से हो गई। परिजनों ने बताया कि बंकटेश प्रताप देव उर्फ लाल बच्चा अपने पत्नी की ईलाज कराकर गढ़वा से गुरुवार की शाम अपने घर लौटे थे, घर आते ही वे अपने गाय का दूध निकलने दौरान अचानक बेहोश हो गए। परिजनों ने उनको बेहोशी की हालत में समुचित ईलाज के लिए गढ़वा ले जाया गया। जहाँ डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया ।डॉक्टरों के द्वारा बताया गया कि उनका हृदय गति रुक जाने के कारण उनकी मृत्यु हुई है। इधर गाँव मे उनकी निधन कि खबर सुनने ही आस पास के गाँव के लोगो का उनके घर पर भीड़ लगना शुरू हो गया।
उनका अंतिम दाह संस्कार शुक्रवार को बाकी नदी के तट पर किया गया। उनका पुत्र गौरव प्रताप देव के द्वारा मुखाग्नि दी गयी।
मालूम हो कि बंकटेश प्रताप देव उर्फ लाल बच्चा माता -पिता के एकलौते पुत्र थे। मृतक बंकटेश प्रताप देव उर्फ लाल बच्चा बिशुनपुरा उच्च विद्यालय के राजनैतिक शास्त्र विषय के शिक्षक के रूप में कार्यरत थे। वे मृदुलभाषी शिक्षक थे उनका विद्यालय में शिक्षकों एवं विद्यार्थियों के बीच बहुत ही अच्छा कार्यशैली रहा करता था। उनके अचानक निधन को सुन कर उनके द्वारा पढ़ाये गए शिष्य चकित हो गए।
उनके निधन पर सरकारी, गैर सरकारी, ब्यवसायी लोग,आम ग्रामीणो के भी चेहरे पर मायूसी रही।उनके निधन पर सरकारी, गैर सरकारी एवं आम ग्रामीणों ने उनकी आत्मा के शांति के लिए दो मिनट का मौन रख कर आत्मा शांति के लिए प्रार्थना किया।
उनके दाह संस्कार में शामिल लाल चौबे, बालकृष्ण सिंह, अशोक प्रसाद गुप्ता, कृपाल सिंह, गौरीशंकर गुप्ता, ओमप्रकाश गुप्ता, संजय गुप्ता, कमख्या नारायन सिंह, बबनु चन्द्रवँशी, सत्येंद्र नारायण सिंह, जय कुमार सिंह, आलोक प्रताप देव, संजय गुप्ता, रामनाथ साव, अरविंद प्रताप देव, भानु प्रताप देव, बिजय प्रताप देव, रविन्द्र प्रताप देव सहित इलाके के सैकड़ो लोग व उनकी सभी सहयोगी शिक्षक उनकी अंतिम यात्रा में शामिल थे।

235 total views, 1 views today