Dandai । स्कॉलरशिप पोर्टल से अल्पसंख्यक को मिलने वाली छात्रवृत्ति में 50 लाख रुपए का हुआ गबन

डंडई से चुनमून चौधरी की रिपोर्ट

>जिला कल्याण पदाधिकारी सुबास कुमार ने कहा गठित दल के द्वारा फर्जीवाड़ा की होगी जांच

डंडई । गढ़वा । गढ़वा जिला अंतर्गत डंडई प्रखंड के दो निजी विद्यालय सहित प्रखंड के निकट एक अन्य विद्यालय के द्वारा नेशनल स्कॉलरशिप पोर्टल से अल्पसंख्यक को मिलने वाले छात्रवृत्ति में करीब 50 लाख रुपए का फर्जीवाड़ा करने का मामला प्रकाश में आया है। जिसमें डंडई मुख्यालय के होली फेथ पब्लिक स्कूल, जरही गांव के ऑक्सफोर्ड पब्लिक स्कूल तथा प्रखंड के निकट अंत्योदय आदिवासी उच्च विद्यालय देवगाना का नाम शामिल है। होली फेथ से 177, ऑक्सफोर्ड पब्लिक स्कूल से 141 तथा अंत्योदय आदिवासी उच्च विद्यालय के 148 कूल 466 छात्र छात्राओं का छात्रवृत्ति दी गई । इनमें से कोई भी छात्र छात्रा उक्त दोनो विद्यालय में अध्ययनरत नहीं हैं। फिर भी इन दोनों विद्यालयों से कक्षा 6 से 8 तक छात्रों की संख्या दिखाकर छात्रवृत्ति के लिए फार्म अप्लाई कर छात्रवृत्ति में फर्जीवाड़ा किया गया । दोनों विद्यालयों में प्रत्येक अल्पसंख्यक छात्र को ₹10700 कुल 466 छात्रों को छात्रवृत्ति की राशि निकासी हुई है। ऑक्सफोर्ड पब्लिक स्कूल में अल्पसंख्यकों की संख्या मात्र तीन है जबकि 141 अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं का पैसों की निकासी कर ली गई है। वही होली फेथ स्कूल में अल्पसंख्यकों की संख्या 15 से 20 बताई गई। परंतु 177 बच्चों का छात्रवृत्ति राशि निकासी हुई है। वही अंत्योदय आदिवासी हाई स्कूल के ओर से कुछ भी बताने से इनकार किया गया। उक्त तीनों विद्यालयों में होटल की भी सुविधा नहीं है। फिर भी हास्टल सहीत स्कूल की छात्रवृत्ति मिलाकर कुल ₹10700 प्रत्येक छात्र छात्राओं के हिसाब से फर्जीवाड़ा किया गया है। हालांकि इन तीनों स्कूल और जिला के कंप्यूटर ऑपरेटरों का मिलीभगत से इनकार नहीं किया जा सकता।

मामले में होली फेथ पब्लिक स्कूल के प्राचार्य विवेक कुमार ने बताया कि क्या प्राइवेट स्कूल को भी छात्रवृत्ति मिलती है यह तो हम पहली बार सुन रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमने कभी भी एनएसपी पोर्टल से विद्यालय का केवाईसी नहीं कराया है। वही किसी भी छात्र छात्राओं का छात्रवृत्ति के लिए एनएसपी पोर्टल से फार्म अप्लाई नहीं किया है।

वही ऑक्सफोर्ड पब्लिक स्कूल के प्रभारी प्राचार्य चंदन कुमार ने बताया कि अल्पसंख्यक को छात्रवृत्ति दिलाने को लेकर सत्र 2020-20 21 के लिए केवाईसी हेतु आवेदन अप्लाई किया है। इसके पूर्व की कोई जानकारी मुझे नहीं है और ना ही विद्यालय के एक भी छात्र छात्राओं का कभी भी छात्रवृत्ति के लिए फार्म अप्लाई किया है।

पूछे जाने पर जिला कल्याण पदाधिकारी सुबास कुमार ने मामले में कहा है कि इस मामले में जांच दल गठित कर विधिवत जांच होगी। दोषी लोगों के ऊपर निश्चित रूप से करवाई होगी।

38 total views, 1 views today