बिशुनपुरा । गढ़वा । पीएम आवास योजना में गड़बड़ी,जांच के बाद कई मामले उजागर की संभावना

बिशुनपुरा । गढ़वा । प्रखंड के अमहर खास पंचायत में पीएम आवास योजना में हुई गड़बड़ी के मामले में कई नये खुलासे सामने आये है। जिसमे अमहर पंचायत के पातागाड़ा खुर्द निवासी बसंत साव ने पिछले 3 नवबंर को बीडीओ हुल्लाश महतो को आवेदन देकर आवास योजना में हुई गड़बड़ी को लेकर जांच कर कारवाई करने की मांग की है. आवेदन में अमहर गांव निवासी रघुनाथ राम पिता बासुदेव राम आवास संख्या jh2334862 में लाभुक द्वारा बिना कार्य किये हुए प्रखंड कर्मियों की मिलीभगत से 1 लाख 25 हजार रुपये लाभुक के खाते में डाल दिया गया है. लाभुक रघुनाथ राम के खाते में पहला क़िस्त की राशि 12 सितम्बर 2019 को 40000 हजार रुपये डाला गया था, जिसके बाद लाभुक द्वारा लगभग 1 वर्ष बीत जाने के बाद भी नीव तक नही रखी गयी थी। वही पुनः 1 वर्ष बाद प्रखंड कर्मियों की मिलीभगत से लाभुक रघुनाथ राम को दूसरे के आवास पर खड़ा करा के जियोटैग कर 20 अक्टूबर 2020 को अवैध रूप से दूसरी क़िस्त की राशि 85 हजार रुपये डाल दि गई है. जबकि लाभुक रघुनाथ राम के द्वारा अभी भी आवास बनाने के लिए नीव तक नही रखी गयी है. इससे साबित होता है कि प्रखंड कर्मियों के मिली भगत से लाभुक द्वारा आवास नही बनाने के बाद भी 1 लाख 25 हजार रुपये खाते में डाल कर पैसे का बंदरबाट किया गया है।
वहीं आवेदक बसंत साव ने आवेदन में लिखा है कि मेरे द्वारा आठ जून 2017 को बीडीओ को आवेदन देकर अमहर पंचायत में सरोज देवी आवास संख्या jh1598026 एवं सरिता देवी jh1634295 रोक लगाया था। लेकिन आज तीन वर्ष बाद दोनों को पूरी क़िस्त की राशि प्रखंड कर्मी की मिलीभगत से दो माह पूर्व दे दी गई है। जबकि आवेदक द्वारा आवेदन दिए 15 दिन बीत गए लेकिन अभी तक कोई कारवाई नही किया गया है।

वहीं पंचायत से ब्लॉक तक आवास में गड़बड़ी करने वाले वैसे लोग जो इस तरह के रैकेट में शामिल हैं. हालांकि वैसे लोग खुद बचने और बचाने के चक्कर में एक गलती को सुधारने की जगह कई गलतियां कर रहे हैं।
उसके मुताबिक इस मामले की लीपापोती की कोशिशें तेज हो गई है. इस मामले की निष्पक्ष जांच हुई तो कई लोगों की असलियत सामने आ सकती है।

19 total views, 1 views today