समाज सेवा की मिशाल बने शौकत, 37 दिन में 7000 कपड़े गरीबों के बीच बांटे

Publshing Time: 9:31 AM
गढ़वाः शहर स्थित अल्का बजाज शो रूम के प्रोपराईटर समाजसेवा के क्षेत्र में मिशाल कायम किये हैं। मात्र 37 दिन पहले शुरू की गई लायंस कपड़ा बैंक से वे केवल अपना ही नहीं बल्कि गढ़वा जिला का नाम भी पूरे देश में रोशन किये हैं। उनकी पहल पर खोला गया कपड़ा बैंक ने मिडिया में देशस्तर… पर सुर्खियां बटोरी हैं। कपड़ा बैंक में गरीबों को निःषुल्क कपड़ा दिया जाता है।     शौकत खान ने बताया कि पिछले 37 दिनों में 7000 से अधिक कपड़ों को उन्होंने गरीबों के बीच बांट दिया है। इसे लेकर उन्हें समाज के हर वर्ग से सहयोग मिल रहा है। लोग दूर-दूर से आकर कपड़ा बैंक में अपने पुराने कपड़े जमा करते हैं जिन्हें गरीबों के बीच बांटा जाता है।उन्होंने बताया कि इस कपड़ा बैंक को संचालित कराने में सबसे बड़ा सहयोग जिला प्रशासन के S.D.O,  Sp  और उनके मारगदर्शन से ही संभव हो पाया है, और जागरूकता के लिए सभी मीडिया मित्रों के प्रति आभार व्यक्त किया  कि  खबर का असर है जो गांव के दूर दूर  से लोग गढ़वा कपड़ा लेने पहुंच रहे हैं

पुराने कपड़ों को किया जाता है साफ

श्री खान ने बताया कि लोगों के द्वारा उन्हें जो पुराने कपड़े मिलते हैं उन्हें पहले वांशिग मषीन में डालकर अच्छी तरह से साफ किया जाता है। तत्पष्चात् आईरन दिया जाता है। इसके बाद ही उन्हें कपड़ा बैंक में रखा जाता है। कपड़ा साफ करने के लिये उन्होंने आदमी बहाल कर रखा है जिसके लिये वे अपने पास से उचित वेतन भी प्रदान करते हैं।

प्रतिदिन लगता है भीड़

कपड़ा बैंक से कपड़ा लेने के लिये प्रतिदिन गरीबों की भी लग जाती है। शौकत खान अपना काम छोड़ कर प्रतिदिन दोपहर को 1 घंटा समय कपड़ा बैंक को देते हैं । प्रतिदिन 200 से 300 लोगों के बीच कपड़ा बांटा जाता है। हालांकि जाड़ा कम होते ही अब भीड़ थोड़ी कम हो चली है।

अन्य प्रखंडों में भी कपड़ा बैंक खोलने की है योजना

श्री खान ने बताया कि बहुत जल्द ही वे अन्य प्रखंडों में भी कपड़ा बैंक खोलने की योजना बना रहे हैं क्योंकि बहुत से गरीब जिला मुख्यालय नहीं आ पाते हैं। इसके लिये उन्हें अन्य लोगों से सहयोग की अपेक्षा है।

35 total views, 1 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *