रंका(गढ़वा) : तीन बेटे के प्यार पाने के लिए विवश मां ने बेटे के दरवाजे के सामने दी अपनी जान

रंका(गढ़वा)अपनी मां को दो जून की रोटी दे ने को लेकर तीन भाइयों के आपसी रंजिश एवम प्रतिद्वंद्विता में 50 वर्षीय बुजुर्ग महिला राधिका कुंवर की जान चली गई तीनों बेटा पतोहू से भरे पूरे परिवार के रहते पिछले 10 वर्षों से किराए के घर में भिक्षाटन कर जीवन का एक-एक दिन काट रही बुजुर्ग महिला मंगलवार को जिंदगी की जंग हारकर मौत को गले लगा लिया । रंका शहर के नावा दोहरी मोहल्ला निवासी स्वर्गीय रामदास साहू सोनी की विधवा राधिका कुंवर अपने पति के मौत के बाद से वैसे ही टूट चुकी थी पति पत्नी दोनों मिलकर किसी तरह जीवन की गाड़ी को चलाते हुए तीन बेटा और दो बेटियों को पाल पोस कर शादी-ब्याह के बाद अपने सामाजिक दायित्वों को पूरा कर बुजुर्गावस्था में आराम करने के सपने देख रहे थे इसी बीच 10 वर्ष पूर्व रामदास सोनी का निधन हो गया अपने पति के निधन के महज एक सप्ताह के अंदर तीनों बेटों में मां को खिलाने पिलाने एवं भरण पोषण को लेकर आपस में झगड़ा होने लगा मगर कोई पहले जिम्मेवारी लेने को तैयार नहीं था कुछ दिन तक पड़ोसियों के रहमों करम पर विधवा को भोजन मिलता रहा बाद में उसके बेटों ने अपनी बुजुर्ग मां को मारपीट कर घर से निकाल दिया रंका प्रखंड स्वर्णकार संघ के अध्यक्ष सोनू कुमार सोनी ने बताया कि तकरीबन 10 वर्षों तक अपने पति के खून पसीने की कमाई से बनाए गए आशियाने से थोड़ी दूर राजेश साहू रौनियार के घर के कमरे में रहते हुए भीख मांग कर एवं पड़ोसियों की मदद तथा वृद्धावस्था पेंशन के द्वारा अपने जीवन का गुजारा करती रही इधर बीते एक माह से बुखार एवं कई अन्य तरह के शारीरिक बीमारियों से काफी कमजोर हो चुकी बुजुर्ग महिला राधिका कुंवर सोमवार की रात्रि अपने बेटों के घर जाकर अपना हाल सुना रही थी कि उसके बेटों ने उस पर तरस न खाकर उल्टे मारपीट एवं धक्का देकर पुनः घर से बाहर कर दिया पूरी रात बेहोशी की स्थिति में अपने पति के द्वारा बनवाए गए आशियाने के बाहर पड़ी रही अहले सुबह पड़ोसियों की नजर पड़ी नजदीक जाकर देखा तो बेहोशी की हालत में सांस चल रही थी मोहल्ले के लोगों ने तत्काल 108 पर फोन कर एंबुलेंस बुलाया तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भेजा जहां इलाज के क्रम में उसकी मौत हो गई इसके बाद भी बुजुर्ग महिला के दाह संस्कार को लेकर तीनों बेटों में मारपीट एवं पत्थरबाजी हुई यह देखकर मोहल्ले के लोगों ने तीनों के इस कुकृत्य से दुखी होकर किनारा कर गए रंका प्रखंड स्वर्णकार संघ के सदस्यों ने आपात बैठक बुलाकर तीनों का सामाजिक बहिष्कार कर दिया है पड़ोसियों ने बताया कि तीनों की आर्थिक स्थिति काफी अच्छी है बावजूद इसके तीनों कपूत है

160 total views, 1 views today

0