रंका(गढ़वा) : रंका के लरकोरिया गांव में मोबाइल टावर नहीं रहने के कारण जन वितरण प्रणाली दुकानदार के लाभुकों को हो रही है परेशानी

रंका(गढ़वा) : जन वितरण के आधा दर्जन दुकानों के ऑनलाइन मशीनों में नेटवर्क नहीं मिलने से लाभुकों एवं दुकानदारों को बीते 1 साल से काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। रंका प्रखंड मुख्यालय से 15 से 20 किलोमीटर दूर ग्रामीण अंचलों के सैकड़ों लोगों को रंका प्रखंड मुख्यालय आकर ऑनलाइन मशीन में अंगूठा लगाना पड़ता है तब जाकर उन्हें अपने अपने दुकानों से राशन मिल पाता है और यह सिलसिला पिछले एक साल से जारी है जनबितरण से जुड़े अधिकारियों को इसकी जानकारी के बाद भी समस्या का समाधान नहीं हो सका है। इस बाबत रंका प्रखंड के लरकोरिया गांव स्थित जन वितरण की खुशबू महिला स्वयं सहायता समूह की संचालिका ने बताया कि ऑनलाइन नेटवर्क नहीं मिलने की वजह से पिछले एक साल से रंका प्रखंड मुख्यालय परिसर में आकर लाभुकों से अंगूठा लगवाना पड़ता है ,फिर दुकान से लाभुको के बीच राशन वितरित किया जाता है कभी-कभी रंका में आने पर भी नेटवर्क नहीं मिल पाता तो दोबारा तिबारा आना पड़ता है लरकोरिया गांव की जन वितरण की लाभुक जमीला बीवी नजरुल बीवी अजमेरून बीबी जैनब बीवी रसीदा बीवी हसीना बीबी सकीना बीबी फातिमा बीबी सलमा बीबी जसमूद्दीन अंसारी हकीम अंसारी शकूर अहमद सिराजुद्दीन अंसारी तथा नसीम अंसारी आदि ने बताया कि एक आदमी को 25 रू किराया लगाकर रंका आना-जाना पड़ता है तब जाकर मशीन में अंगूठा लग पाता है कभी-कभी रंका में भी नेटवर्क नहीं मिलने पर दोबारा तिबारा आना पड़ता है इस तरह स्वयं समझा जा सकता है कि हम सबों को राशन लेना कितना महंगा पड़ रहा है इस समस्या के समाधान के लिए कई बार अनुमंडल पदाधिकारी एवं प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी को आवेदन दिया गया मगर आश्वासन के सिवा आज तक कुछ भी नहीं मिला इसी तरह की समस्या सिरोई कला विश्रामपुर ,सिरोई खुर्द तथा बरवाही गांव स्थित जन वितरण के दुकानदार एवं लाभुको की है इन इलाकों में फोर जी नेटवर्क की अच्छी व्यवस्था है मगर सरकार द्वारा ऑनलाइन मशीन में फोर जी सपोर्ट नहीं करता इलाके में टू जी नेटवर्क कभी नहीं रहता है सरकार जन वितरण की व्यवस्था पारदर्शी चाहती है मगर मशीन अपडेट करने की कोई व्यवस्था नहीं नतीजतन लाभुको एवं डीलरो को इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ रही है

 

11 total views, 2 views today