बड़ी खबर ( लातेहार ) : नक्सली पुलिस की गोली खाने को रहें तैयार, डीजीपी की कड़ी चेतावनी

l

लातेहार:  झारखण्ड के डीजीपी डीके पाण्डेय मगलवार को लातेहार पहुंचे.  सीआरपीएफ कैंप में आयोजित पलामू पुलिस की प्रमंडलीय स्तरीय बैठक को संबोधित करते हुए डीजीपी ने कहा कि नक्सलियों के समक्ष अब एक ही रास्ता बचा है कि वे सरकार की सरेंडर पालिसी का लाभ उठाकर स्वेच्छा से सरेंडर कर दें या पुलिस की गोली से मरने को तैयार रहें।

डीजीपी ने कहा कि बूढ़ा पहाड़ को नक्सलमुक्त बनाने के लिए पुलिस कमर कस चुकी है। मानसून की बारिश के दौरान भी पुलिस का अभियान रूकने वाला नहीं है। शीर्ष नक्सली सुधाकरण रेड्डी व उसकी पत्नी नीलिमा के साथ – साथ नवीन यादव और छोटू खरवार की घर व ससूराल तक की संपत्ती जब्त करने की दिशा में पुलिस ने कार्रवाई प्रारंभ कर दी है। एक – एक करोड़ के इनामी सुधाकरण व उसकी पत्नी नीलिमा की गिरफ्तारी में जनता से मदद का आहवान करते हुए कहा कि इन दोनों की गिरफ्तारी में जो मदद करेगा उसे दोनों नक्सलियों पर घोषित एक – एक करोड़ रूपये की राशि बतौर इनाम दी जाएगी।

 

 

 

डीजीपी ने कहा कि नक्सलियों से यहां की जनता ऊब चुकी है, ग्रामीण निरंतर नक्सलियों से जुड़ी सूचनाएं देकर हमारा काम आसान बना रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य भर में पब्लिक से रिलेशन बेहतर करने की दिशा में कार्य किया जा रहा है। सभी जिलों से इस पर बेहतर प्रयास के परिणाम की सार्थकता भी दिख रही है। विशेष तौर ग्रामीण इलाकों में स्थित थाना और पिकेट में कार्य करने वाले जवानों को संबोधित करते हुए कहा कि दुरूह क्षेत्रों में काम करने वाले पुलिस के जवान हमारी रीढ़ हैं, पुलिस जवानों की समस्याओं के कारण और निदान को लेकर भी डीजीपी ने विचार साझा किया। इस मौके पर एडीजीपी अनुराग गुप्ता, आपरेशन आईजी आशीष बात्रा, सीआरपीएफ आईजी संजय आनंद लाठकर, डीआईजी पलामू प्रक्षेत्र विपुल शुक्ला, लातेहार एसपी प्रशांत आनंद, पलामू एसपी इंद्रजीत महथा, गढ़वा एसपी शिवानी तिवारी, सीआरपीएफ 11 वीं बटालियन के कमांडेंट विनय कुमार त्रिपाठी, अभियान एसपी विपुल पाण्डेय, सीआरपीएफ 214 वीं बटालियन के कमांडेंट अजय सिंह समेत बड़ी संख्या में पुलिस के पदाधिकारी मौजूद थे।

85 total views, 1 views today