आवश्यक सूचना- भूल सुधार (सन्दर्भ- मेडाल कंपनी…, 4जुलाई 2018 को प्रकाशित न्यूज़ के सम्बन्ध में)

सभी पाठकों को सूचित किया जाता है कि 4 जुलाई 2018  को प्रकाशित न्यूज़ “मेडाल कंपनी का एमडी गिरफ्तार ” में भूलवश दूसरी कंपनी की जगह उक्त कम्पनी का नाम लिखा गया था. इस बात के लिए talash tv परिवार मेडाल कंपनी से क्षमापार्थी है.

…………

दरअसल 4जुलाई 2018  को प्रकाशित उक्त न्यूज़ में गिरफ्तार सुरजीत लाल पासवान इंफ्रा ‌‌‌वेभ ट्रेडिंग प्राइवेट लिमिटेड कंपनी का एमडी है. सुरजीत द्वारा मेडाल का फ्रेंचाइजी लेकर झारखण्ड में कई जिलों के अस्पतालों में पैथोलॉजी का काम भी किया जा रहा था. जबकि फर्जीवाडा का जो काम हुआ है वो इंफ्रा ‌‌‌वेभ ट्रेडिंग प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के द्वारा हुआ है जो कि सुरजीत का है. फर्जिवाडा वाले मामले में मेडाल कंपनी का कोई सम्बन्ध नहीं है. पुलिस के द्वारा मेडाल कंपनी के अधिकारियों से संपर्क कर सुरजीत के पेमेन्ट पर रोक लगाने की बात कही गई है.

क्या था पूरा मामला – न्यूज़ का पुनः प्रकाशन (सुधार के साथ)-

चिटफंड कंपनी इंफ्रा ‌‌‌वेभ ट्रेडिंग प्राइवेट लिमिटेड का संचालक गिरफ्तार

पलामू पुलिस ने नन बैंकिंग चिटफंड कंपनी इंफ्रा ‌‌‌वेभ ट्रेडिंग प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के नाम से चला रहे कंपनी के संचालक सुरजीत लाल पासवान को पुलिस ने किया गिरफ्तार किया है. इसपर 7 करोड़ों 80 लाख रुपए के फर्जीवाडा का मामला है.

दरअसल सुरजीत और उसके कुछ लोगों द्वारा उक्त कंपनी को खोलकर लोगों से उसमे पैसा निवेश करने को कहा गया. बदले में हर महीने 8 से 10 प्रतिशत तक प्रतिमाह ब्याज देने को कहा गया. करीब 100 लोगों ने कंपनी के झांसे में आकर करीब साढ़े सात करोड़ रुपए निवेश कर दिए. ग्राहक जब पैसा मांगते तो सुरजीत चेक दे देता था. लेकिन कई लोगों के चेक बाउंस हुए.

सुरजीत ठगी का पैसा दुसरे कामों में लगाया गया. सुरजीत के द्वारा राज्य के 12  जिलों में मेडाल कंपनी से फ्रेंचाइजी लेकर पैथोलॉजी जांच का काम भी किया जा रहा था. पुलिस के द्वारा मेडाल कंपनी के अधिकारीयों से बात कर सुरजीत को पमेंट दिए जाने पर रोक लगाने को कहा गया है. एसपी ने बताया कि इस कंपनी के खिलाफ सभी विभाग को सूचना दी गई है ताकि इसमें शामिल अन्य लोगों की गिरफ्तारी हो सके पुलिस कंपनी से ग्राहकों को हर संभव पैसा वापस दिलाने की दिशा में काम कर रही है ।

 

 

 

209 total views, 3 views today