हुसैनाबाद(पलामू): शहीद कुंदन कुमार सिंह पञ्च तत्व में विलीन, एसपी ने घर वालों को दिया सांत्वना

हुसैनाबाद(पलामू):  थाना के कामगारपुर ओपी अंतर्गत गमहर बिगहा गांव निवासी किसान सुरेष सिंह का 25 वर्शीय द्वितीय पुत्र कुंदन कुमार सिंह नक्सलियों के साथ किये मुठभेड़ में शहीद हो गए.  आज  पुरे सम्मान के साथ पञ्च तत्व में विलीन हुए. . कुंदन की बहाली एसटीएफ पुलिस में 2014 में हुआ था। कुंदन कुमार सिंह स्कूली जीवन से ही देष के लिये जज्बा रख पढ़ाई खत्म होते ही देष रक्षा के लिये बहाली हो गया। देष भक्ति का जज्बा मन में हिलोरे ले रहा था। वह जवानी में परवान चढ़ा व भारत माता के कसम व षपथ के साथ सेवा में जूट गया।
कुंदन पूरे प्रषिक्षण के तप्ती आग में तपक र सच्च में देष सहित हुसैनाबाद का लाल बनकर निकला, जो जज्बे के साथ किसी भी आॅपरेषन व मुठभेड़ को अपने डियूटी के साथ पूरा करता रहा। कुंदन डियुटी के साथ-साथ पूरे ईमानदारी भावना को वह सलाम करते हुये किसी भी तरह की लड़ाई से वी पीछे हटने का नाम नहीं लेता, वह बराबर नक्सलियों के छापामारी व मुठभेड़ में आगे की पंक्ति में खड़ा होकर नक्सलियों को चने चबवाता।

अंत में नक्सली उसके भय से भागने में मजबूर हो जाते। कुंदन ने कई मुठभेड़ में दिलेरी का परिचय देते हुये देष भक्त का फर्ज व हमसबों का साथ निभाने का उपर वालों ने ईतना ही वक्त दिया। वह मंगलवार की देर रात लातेहार जीले के बुढ़ा पहाड़ में आॅपरेषन के दौरान सहादत दे दी। इस संबंध में कई जवानों के साथ-साथ अनुमंडल पुलिस ने कुंदन की सहादत को बेकार नहीं जाने देने की कसम खायी है। मुठभेड़ के दौरान नक्सलियों ने छह जवानों को लैंड माईनस के जरिये षहीद किया है। जिससे पुलिस हर संभव नक्सलियों से बदला लेने के लिये कसम खायी है।

देष के लिये कुर्बान हुआ है मेरा लाल कुंदनः पिता सुरेष
हुसैनाबाद थाना के कामगारपुर पीकेट से सटे गमहर बिगहा गांव निवासी प्रतिश्ठित किसान सुरेष सिंह बताते हैं कि देष के लिये मेरा लाल कुंदन कुर्बान हुआ है। उन्होंने कहा कि मेरा लाल बचपन से ही देषभक्ति का जज्बा लेकर पठन पाठन करता था। पढ़ाई खत्म होते ही वह देष की सेवा के लिये जज्बे के साथ घर से चल पड़ा। कुंदन का एक ही लक्ष्य था कि वह देष की सेवा के लिये वह अगर कुर्बान भी होता है तो वह अमर है। उन्होंने कहा कि कुंदन की कुर्बानी कभी व्यर्थ नहीं जायेगी।
उन्होंने कहा कि नक्सली कायरता के साथ छूपकर वार करते हैं। उन्होंने कहा कि कुंदन का षादी के लिये कई लोग आये किंतु वह फिलहाल षादी से इनकार करता रहा। कुंदन तीन भाई था। सबसे बड़े पुत्र चंदन कुमार सिंह, कुंदन कुमार सिंह व नितीष कुमार सिंह जिसमें कुंदन देषभक्ति के जज्बा के साथ षहीद हो गया। उन्होंने कहा कि माता षारदा देवी व पिता सुरेष सिंह को कुंदन पर षुरु से ही भरोसा था। जो देष के लिये कुर्बान हो गया।
घटना की खबर मिलते ही मां षारदा देवी व घर के परिजन का रो-रोकर था बुरा हाल
हुसैनाबाद थाना के गमहर बिगहा गांव में षहीद कुंदन के परिजनों को षहीद होने की खबर के बाद भी पूरे घर सहित गांव में चितकार मच गया। मां षारदा देवी व कई घर के परिजन दहाड़ मारकर रोने लगे। मां रो-रोकर यह कहती रही की मेरा लाल कहा है। षारदा ने रोते रोते पुत्र के वियोग में अचेत हो जाती थी। जिसे कई लोग उसे होष में लाने का प्रयास करते थे। कुंदन अपने परिवार का एक होनहार योद्वा था। मां ने कहा कि मेरे लाल का षहीद होना कभी व्यर्थ नहीं जायेगा। उन्होंने अपने चित्कार के साथ पीठ पर वार करने वाले नक्सलियों को कोसती रही। कुंदन के पिता छह भाई थे। सबसे बड़े भाई राजेष सिंह, भुनेष सिंह, सुरेष सिंह, बैंकटेस सिंह, विष्वनाथ सिंह व संजय सिंह। पूरे भरे पूरे परिवार के बीच षहीद कुंदन का लालन पालन हुआ था। जिससे पूरे घर कुंदन के सहादत की सूचना के बाद टूट पड़ा है। पूरे गमहर बिगहा गांव के साथ-साथ आस पास के दर्जनों गांव में मातमी सन्नाटा पसरा है।
एसपी इन्द्रजीत महता ने परिजनों को सांत्वना दिया
कुंदन की कुर्बानी व्यर्थ नहीं जायेगी, परिजनों को पूर्ण मिलेगा सहयोगः एसडीपीओ
हुसैनाबाद थाना के कामगारपुर ओपी से सटे गमहर बिगहा गांव निवासी किसान सुरेष सिंह का द्वितीय पुत्र कुंदन कुमार सिंह का लातेहार जिला के बुढ़ा पहाड़ ईलाके में नक्सलियों के साथ हुये मुठभेड़ में षहीद होने के बाद सूचना मिलते ही पूरे अनुमंडल प्रषासन षक्ते में हो गई। एसडीपीओ मनोज कुमार महतो, थाना प्रभारी रास बिहारी लाल को सूचना मिली की हुसैनाबाद का एक लाल भी षहीद हुआ है। इसके बाद पूरे अनुमंडल प्रषासन गमहर बिगहा गांव पहुंचकर परिजनों को ढाढस बंधाने में जूट गई। एसडीपीओ मनोज कुमार महतो व थाना प्रभारी रास बिहारी लाल ने कहा कि कुंदन का सहादत कभी व्यर्थ नहीं जायेगा। उन्होंने कहा कि कुंदन के पूरे परिजनों को हुसैनाबाद पुलिस हर संभव मदद को तैयार है। उन्होंने कहा कि देष भक्ति में अगर किसी ने अपने लाल को खोया है तो उसका लाल हम सभी पुलिस के जवान साथ में खड़े हैं। उन्होंने पिता सुरेष सिंह व माता षारदा देवी के साथ-साथ पूरे परिजनों को ढाढस बंधाने का काम किया।
पूर्व नगर अध्यक्ष ने भी परिजनों को बंधाया ढाढस
कुंदन की शहादत की खबर मिलते ही पूरे हुसैनाबाद अनुमंडल क्षेत्र के कई समाजिक संगठन व राजनीतिक दल के साथ-साथ हुसैनाबाद नगर पंचायत के पूर्व नगर अध्यक्ष रामेश्वर राम भी परिजनों को ढाढस बंधाने के लिये पहुंचे। उन्होंने शहीद कुंदन के पिता सुरेश सिंह को ढाढस बंधाया। कहा कि आपका पुत्र देश रक्षा के लिये कुर्बान हुआ है। उसकी सहादत कभी व्यर्थ नहीं जायेगी। उन्होंने कुंदन के माता शारदा देवी सहित पूरे परिजनों को भी संात्वना देते हुये इस दुख की घड़ी में हर संभव सहयोग देने की बात कही।

356 total views, 1 views today