Big Breaking… पलामू: टीका लगाने के बाद चार बच्चों की मौत, पूरे पलामू में मातम का माहौल

पलामू। जिला के पाटन प्रखंड के लोइंगा गांव में एक हर्दय विदारक घटना घट गई। बच्चों को दी गई एक टीका चार मासूम बच्चों की मौत का कारण बन गया। तीन बच्चों की मौत गांव में हुई जबकि एक की मौत इलाज के दौरान सदर अस्पताल में हो गई। समाचार लिखे जाने तक और चारबच्चे सदर अस्पताल मेदिनीनगर में जिन्दगी और मौत के बीच झूल रहे हैं। एक इलाजरत पीड़ित बच्चे की मां ने बताया कि कल सुबह करीब 11 बजे उन्होंने आंगनबाड़ी केन्द्र में अपने डेढ़ साल के बच्चे को टीका दिलवाया था। एएनएम ने टीका दिया था और कहा गया कि टीका देने के बाद बुखार आता है। जब बुखार आए तो एक और दवा खिलाने के लिये दी गई । बच्चों को रात्री में बुखार आया तो दवा दी गई। इसके बाद बच्चों को उल्टी और दस्त होना शुरू हुआ। गांव के 9 बच्चों को यह टीका लगाया गया था। उल्टी दस्त से तीन बच्चों की मौत गांव में ही हो गई। अन्य बच्चों को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

मामले की जानकारी होने पर क्षेत्रीय विधायक राधाकृष्ण किशोर लोगों के बीच जाकर जानकारी लिये और स्वास्थ्य सचिव को मामले की जानकारी दी। सरकार ने मामले को गंभीरता से लेते हुए तुरन्त ही पीड़ित परिवार को एक एक लाख की मुआवजे की राशि उपलब्ध कराई।

अब जरा सोचिये


टीका से चार मासूम बच्चों की मौत ने पलामू सहित पूरे झारखंड को झकझोर कर रख दिया है। आखिर चुक कहां हुई। सुशासन का दंभ भरने वाली भाजपा सरकार में क्या अफसर इतने बेलगाम हो गए हैं कि दी जाने वाले टीका को बिना जांच किये लगाया जा रहा है। जिस पलामू प्रमंडल ने सूबे का स्वास्थ्य मंत्री दिया हो वहां ही ऐसी घटना कहीं न कहीं सरकार के ढुलमुल रवैये को दर्शाता है। इसी बीच व्हाट्सअप पर यह बात भी वायरल हो रहा है कि तीन मासूमों की मौत पर उसके परिजन बिलख रहे हैं और सूबे के स्वास्थ्यमंत्री भाजपा की मेयर प्रत्याशी को जीत दिलाने के लिये सभाएं करते नजर आ रहे हैं।

 

446 total views, 1 views today